Hope

नए रूप की तलाश कर (Hope Creates Better Version of You)

मेरी कविताएं (My poems in Hindi)

(Hope Will Reform You) नए रूप की तलाश कर

Hope

आशा(Hopes) – निराशा का दौर;
चलता है ,
हार जीत का दौर ;
चलता है ,
ख़ुशी गम का दौर ,
चलता है ,

खोटे सिक्के भी ,
चलाओ तो चलता है ,
नहीं चलता है , तो ओ;
जो हार ; मानकर बैठ जाता है I

उठ चल ;
नए उमंग से ,
नए तरंग से;
नयी जिंदगी की ,
शुरुआत कर ,

मत कर इंतजार तू ,
अपने वक़्त की ;
जहाँ भी है ,
वहीँ से खुद के वक़्त की शुरुआत कर ,

नया दौर है,
नए रूप की तलाश कर ,
जहाँ भी है तू,
वहीं से सुरुआत कर ;
आये जब कोई चुनौती,
मत बैठ ,
हार कर ,
खुद के नए रूप की,

तलाश कर ,
खुदा भी ,
चाहता है ,
तेरे नए रूप को ,
इसीलिए , हर दिन ;
एक नया पैगाम भेजता है I

Meanings in English :

‘Hopes’ create hope , small hopes create big hope, so poet in this poem assert that trend of success and failure , keeps appearing and disappearing but , and it’s a skill to handle all the situations , one needs to be passionate and optimistic , because every new challenge demands your new version.

Give yourself , to God, let him guide you , he will inspire you and give messages to your brain , to your subconcious brain , you need to heed it . So , be hopeful and act now .

Don’t wait for your good time , you are a human, do something , and start creating your time on your own , God helps those who help themselves .

Life creates sometime , very painful face , this doesn’t mean , to defeat you , but create you .

It wants a better version of you. It wants a better form of you.

ऐ कदम तू अभी, न रुकना

More about Hindi Literature